प्रमुख

गतिविधियां
Skip Navigation Links
About Us
परिचय
उद्देश्य
महासभा का इतिहास
Office Bearers
Trust Board
Arbitrator
Working Committee
Sanyojak Team
Anchalik Prabhari
Margdarshak
Patron
Paramarshak
आगामी कार्यक्रम

परिचय

जैन श्वेताम्बर तेरापंथी महासभा तेरापंथ धर्मसंघ एवं समाज की सबसे प्राचीन शीर्षस्थ एवं राष्ट्रीय संस्था है । इसकी स्थापना 28 अक्टूबर 1913 को कोलकाता में हुई थी । इसका पंजीकृत प्रधान कार्यालय 3, पोचुगीज चर्च स्ट्रीट, कोलकाता 700001 में है । प्रारंभ में महासभा का नाम ‘जैन श्वेताम्बर तेरापंथी सभा’ रखा गया था, परन्तु देश के विभिन्न क्षेत्रों में अनेक तेरापंथी सभाओं की स्थापना के बाद 30 जनवरी 1947 को इसका नाम बदल कर ‘जैन श्वेताम्बर तेरापंथी महासभा’ रखा गया । उक्त पते पर ‘महासभा भवन’ नामक इसका तिमंजिला निजी भवन है, जिसमें इसका प्रधान कार्यालय, प्रवचन कक्ष, उपसना कक्ष, ऑडिटोरियम, भिक्षु ग्रंथाकार आदि स्थित है।


जैन श्वेताम्बर तेरापंथी महासभा का सौ वर्षों का गौरवपूर्ण इतिहास है। पिछले लगभग 9 दशकों में महासभा ने सामाजिक, अध्यात्मिक, धार्मिक, शैक्षणिक, प्रशासनिक आदि क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य किये हैं। इसके मौलिक एवं प्राणवान कार्यक्रम इसके कर्तृत्व की लंबी कहानी प्रस्तुत करते हैं। महासभा द्वारा संगठन, ज्ञानशाला, उपासक श्रेणी, उपासना कक्ष संयोजना, जैन भारती के प्रकाशन, संबोधन अलंकरण सम्मान, साहित्य प्रकाशन, जैन दर्शन – प्रचार प्रसार, मेधावी छात्र प्रोत्साहन परियोजना, महासभा शिक्षा सहयोग योजना, भिक्षु ग्रंथागार संचालन, विसर्जन योजना आदि क्रियाकलाप संचालित किये जाते हैं। इसके अतिरिक्त महासभा तेरापंथ समाज को सुसंगठित एवं सुदृढ़ बनाये रखने एवं देश–विदेश में फैली करीब 500 सभाओं को प्रेरणा प्रोत्साहन देने और तेरापंथ धर्मसंघ के आचार्यों के इंगित के अनुसार उन्हें विभिन्न क्रियाकलापों के लिए दिशानिर्देशित करने के अपने दायित्व का निर्वाह भी पूरी निष्ठा तथा समर्पण भाव के साथ कर रही है।


Home | About Us | Feedback | Contact Us
Copyright (c) 2010, All rights reserved to Jain Swetamber Terapanthi Mahasabha.
Best viewed on Internet Explorer 6 and above with 1024x768 screen resolution.
Website Developed by: Pagaria Consultancy Services Ltd